डाइट

पाचन तंत्र की मजबूती, स्वस्थ शरीर की गारंटी

अपने शरीर को पूरी तरह स्वस्थ रखने के लिए हमारे पाचन तंत्र का दुरुस्त होना बहुत आवश्यक है। बहुत से लोग खाते तो काफी हैं, लेकिन उनका शरीर में विकास नहीं हो पाता है और बीमारियां भी बनी रहती हैं। इसका सबसे बड़ा कारण उनका पाचन तंत्र कमजोर होना ही है। अच्छे शरीर, पर्सनैलिटी वाले लोगों की सबसे बड़ी ताकत उनके पाचन तंत्र का सुचारू रूप से कार्य करना ही है।

पाचन तंत्र वह क्रिया है, जिसमें जब भी हम कुछ खाते हैं उसे सही रूप से पचाकर शरीर में पहुंचाने का कार्य संचालित होता है। पाचन तंत्र हमारे भोजन, आहार को ऊर्जा में बदलकर शरीर को शक्ति, पोषण और प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है। अगर पाचन तंत्र खराब हो जाए तो हम जो कुछ भी खाएंगे उसे ढंग से पचा नहीं पाएंगे। हमारे शरीर को जरूरी विटामिन, प्रोटीन, मिनरल्स आदि नहीं मिल पाएंगे और जल्दी-जल्दी बीमार पड़ जाएंगे।

पाचन तंत्र बिगड़ने के कारण…

आमतौर पर हम स्वाद के चक्कर में काफी चीजें खाते हैं, जो सेहत के लिए और हमारे पाचन तंत्र के लिए हानिकारक सिद्ध होती हैं। पाचन तंत्र की गड़बड़ी के प्रमुख कारण यह हो सकते हैं-

अधिक मात्रा में फास्ट फूड या जंक फूड खाना, दिनचर्या का अनियमित होना, एक ही जगह कई घंटों तक बैठकर लगातार काम करना, पूरी नींद नहीं हो पाना, अत्यधिक शारीरिक या मानसिक परिश्रम करना, व्यवसाय या अन्य किसी कारण को लेकर तनाव का होना, बहुत कम मात्रा में पानी पीना, खाने पीने में कमी करना, जरूरत से अधिक मात्रा में भोजन कर लेना, देर रात तक जागना, नशीले उत्पाद शराब, सिगरेट आदि का सेवन करना, आदि।

पाचन तंत्र खराब होने के सामान्य लक्षण- एसिडिटी होना, अपच होना, बदहजमी होना, पेट में कब्ज की समस्या होना, सीने में जलन होना, डायरिया हो जाना एवं पेट से जुड़ी अन्य समस्याएं।

पाचन तंत्र ठीक रखने के आसान उपाय…

1. पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन-

हमें 1 दिन में लगभग 2- 3 लीटर पानी पीना ही चाहिए। शरीर में पानी की मात्रा पर्याप्त रूप से होने से भोजन को पचने में आसानी रहती है और पाचन तंत्र ठीक रहता है।

2. समय से सोना, अच्छी नींद-

रात को खाने के बाद टाइम से सोना और गहरी नींद अच्छे से सोना, हमारे शरीर के स्वास्थ्य और पाचन तंत्र की बेहतरी के लिए बहुत आवश्यक है। बहुत से लोग अपनी खराब दिनचर्या या काम की व्यस्तता के कारण देर रात तक जागे रहते हैं, उसके बाद सुबह में भी देर से उठते हैं, ऐसे लोगों का पाचन तंत्र खराब होना तय है।

3. नियमित दिनचर्या-

हमारे स्वस्थ और सक्रिय शरीर के लिए एक अच्छी और नियमित दिनचर्या का होना बहुत आवश्यक है। अगर आपकी दिनचर्या ठीक नहीं है तो आपको दिन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए पाचन तंत्र को बेहतर बनाए रखने के लिए अपने काम, आराम, भोजन, नींद, व्यायाम आदि अन्य गतिविधियों का एक डेली रूटीन बनाना ठीक रहता है।

4. फास्ट फूड से रहें दूर-

स्वाद के चक्कर में बहुत लोग फास्ट फूड खाते हैं, वह खाने में तो अच्छा लगता है। लेकिन, शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता है। बहुत ज्यादा मसालेदार, तीखा, चटपटा या ऑइली खाने से हमारा पेट खराब होने की ज्यादा संभावना रहती हैं।

5. मानसिक तनाव को करें अलविदा-

आज की दौड़-भाग और चिंता भरी जीवन शैली में तनाव हमारे स्वास्थ्य का सबसे बड़ा दुश्मन बन गया है। जो इंसान को अंदर ही अंदर खोखला व कमजोर करता रहता है। जिसके कारण व्यक्ति कई रोगों से पीड़ित हो जाता है। अधिक तनाव लेने से पाचन तंत्र भी खराब हो जाता है और शरीर के समस्त व्यवस्था बिगड़ जाते हैं। इसलिए तनाव को दूर करने के लिए सकारात्मक सोच के साथ जीवन को आगे बढ़ाते रहें।

6. सही समय पर भोजन-

सुबह का नाश्ता, दोपहर का खाना और रात का डिनर तीनों सही समय पर शरीर को मिलते रहें तो पाचन तंत्र और सेहत अच्छे बने रहते हैं। अगर हम समय से पहले या ज्यादा समय बीतने के बाद खाना खाएं तो हमारा भोजन अनियमित हो जाता है। जिसके कारण पाचन तंत्र को असुविधा होती है और भोजन को हजम होने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

7. शारीरिक परिश्रम भी है आवश्यक-

ऐसे अधिकांश लोग जो दिन भर बैठे रहने का काम करते हैं, दुकान, ऑफिस या व्यापार आदि, उनका पाचन तंत्र अक्सर खराब हो ही जाता है। ऐसे लोगों को अपनी दिनचर्या में कुछ शारीरिक परिश्रम को अवश्य ही शामिल करना चाहिए, जैसे सुबह टहलना, व्यायाम करना, पैदल घूमना, दौड़ लगाना, कुछ आसन करना आदि शारीरिक क्रियाओं से शरीर में स्फूर्ति भी बनी रहती हैं।

8. नशीले पदार्थ हैं जानलेवा-

हम सब जानते ही हैं कि शराब, सिगरेट जैसे नशीले पदार्थ हमारी सेहत के लिए बेहद हानिकारक होते हैं। उसके बावजूद भी बहुत से लोग इनका सेवन करते हैं। उनका लगातार सेवन करने से हमारा पाचन तंत्र गंभीर रूप से बिगड़ जाता है और कई शारीरिक व मानसिक बीमारियां बढ़ जाती हैं। इसके अलावा चाय और कॉफी की लत से भी बचकर रहना चाहिए।

9. आवश्यकता अनुसार ही खाएं-

अधिक भोजन खाना भी हमारे स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता। स्वाद के चक्कर में आवश्यकता से अधिक खा लेने से शरीर में अपच हो सकती है। इसलिए जितनी भूख हो उतना ही खाना चाहिए। अधिक खाने के चक्कर में बाद में पेट खराब होता है, पाचन तंत्र पर दबाव पड़ता है, जिसके कारण बाद में परेशानी उठानी पड़ती हैं।

पाचन शक्ति के सहयोगी तत्व-

इलायची, अदरक, नींबू, सलाद का सेवन, अमरूद, सौंफ़, एलोवेरा, हल्दी, आंवला, पपीता, केला, मूंग की दाल, अंकुरित चना, आम, अनार, अंजीर, संतरे आदि के प्रयोग से हम पाचन शक्ति को लाभ पहुंचा सकते हैं।

पाचन शक्ति के सहायक कुछ अन्य घरेलू उपाय-

• भोजन को हमेशा अच्छी तरह चबा चबा कर खाएं।
• खाने में दही का सेवन अवश्य करें।
• अनार का रस पाचन तंत्र में लाभदायक होता है।
• अजवाइन को पानी में उबालकर पीने से भी पाचन तंत्र ठीक रहता है।
• प्रतिदिन 3 ग्राम काली राई लेने से कब्ज वाली बदहजमी दूर हो जाती है।
• अमरूद के पत्तों में शक्कर मिलाकर खाने से बदहजमी दूर हो जाती है।
• अनानास का रस भी पाचन के लिए लाभदायी होता है।
• हरड़ का मुरब्बा पाचन के लिए अच्छा रहता है।
• नींबू पर काला नमक लगाकर चाटने से भी अपच दूर होती है।
• बदहजमी और गैस को दूर करने के लिए हींग का प्रयोग लाभदायक होता है।

पाचन तंत्र को मजबूत रखने के लिए रोजाना कुछ आसन भी करने चाहिए, जैसे- नौकासन, त्रिकोणासन, पश्चिमोत्तानासन, प्लाविनी योग, अग्निसार योग, भुजंगासन, वज्रासन।

Related posts

काला जीरा तेल – आपके स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम

admin

बकरी का दूध – औषधीय गुणों से भरपूर

admin

खुबानी के बीज के फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे

admin

Leave a Comment