डाइट

गुणकारी आँवला और उसके लाभ

आयुर्वेद के अनुसार आंवला एक ऐसा फल है, जिसके अनगिनत लाभ हैं। आँवला सिर्फ त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद नहीं है बल्कि कई तरह के रोगों के लिए औषधि के रूप में भी काम करता है। आँवला का प्रयोग कई तरह से किया जाता है, जैसे- आँवला जूस, आँवला पाउडर, आंवला अचार आदि। आंवला में प्रचुर मात्रा में विटामिन, मिनरल और न्यूट्रिएंट्स होते हैं, जो आंवला को अनमोल गुणों वाला बनाते हैं। आँवला खून को साफ रखता है। दस्त, मधुमेह, जलन की परेशानी में लाभ पहुंचाता है। इसके साथ ही है ज्वाइंडिस, हाइपर एसिडिटी, एनीमिया रक्त पित्त वात पित्त के साथ-साथ बवासीर क्या हेमोरॉयड में भी फायदेमंद होता है।

आंवले के लाभ-

1. डायबिटीज में आंवला का उपयोग-

वर्तमान में डायबिटीज या मधुमेह से अनेक लोग रहते हैं। इसके लिए आंवला, हरड़, बहेड़ा नागरमीथा, दारूहल्दी एवं देवदारू ले। इनको समान मात्रा में लेकर पाउडर बना लें, इसे 10-20 मिलीलीटर की मात्रा में सुबह-शाम डायबिटीज के रोगी को पिलाने से लाभ मिलता है।

2 त्वचा रोग में फायदेमंद-

नीम का पत्ता तथा आँवलेल को घी के साथ सेवन करें, इससे फोड़े- फुन्सी, चोट संबंधी परेशानी वित्त की समस्या खुजली आदि में लाभ होता है।

3. दस्त में आंवले के फायदे-

10-12 ग्राम आंवला के कोमल पत्तों को पीसकर छाछ के साथ सुबह-शाम सेवन करें दस्त में लाभ मिलता है।

4. अपच में आंवला का उपयोग-

आंवला को पकाकर इसमें उचित मात्रा में काली मिर्च, सोंठ, सेंधा नमक, भुना जीरा और हींग मिला लें। इसे छाया में सुखा लें इसका सेवन करें इससे भूख लगती है तथा कब्ज और अपच जैसी समस्याओं से राहत मिलती है।

5- उल्टी से दिलाई राहत-

10 -12 मिलीलीटर आंवला के रस में पांच 10 ग्राम मिश्री मिलाकर सेवन करें इसे हिचकी और उल्टी बंद हो जाती है।

6. मोतियाबिंद में आंवला का लाभ-

उम्र बढ़ने के साथ-साथ कई लोगों को मोतियाबिंद की परेशानी होने लगती है। इससे बचने के लिए आंवला के साथ रसांजन, मधु और घी मिला लें। इस मिश्रण को आंखों में लगाने से आंखों के पीलेपन और मोतियाबिंद में बहुत लाभ मिलता है।

7. नाक से खून बहने की समस्या में लाभदायक होता है आंवला-

नाक से खून बहने की समस्या ने कारणों से हो सकती है। इसमें आंवला फायदेमंद होता है। जामुन, आम तथा Convent को कांजी आदि के साथ बारीक पीस लें। इसे मस्तक पर लेप करने से नकसीर में लाभ होता है।

8. गले की खराश में आंवला के फायदे-

गले की खराश में परेशानी होने पर अजमोदा, हल्दी, आंवला, यवक्षार तथा चित्र को समान मात्रा में मिला लें। 1- 2 ग्राम चूर्ण को दो चम्मच मधु तथा एक चम्मच घी के साथ चाटें। इससे गले की खराश में आराम मिलता है।

9. गठिया से दिलाए राहत-

गठिया में जोड़ों में दर्द और सूजन हो जाता है। इस परेशानी से सबसे ज्यादा बड़े बूढ़े लोग ग्रस्त होते हैं। इसमें 20 ग्राम सूखे आंवले, और 20 ग्राम गुड़ लें इसे 500 मिलीलीटर पानी में उबाल ले। 250 मिलीलीटर पानी शेष रहने पर छानकर सुबह-शाम पीने से गठिया में लाभ होता है इस दौरान मुख्य सेवन ना करें।

10. खुजली से दिलाए राहत-

आंवले की गुठली को जलाकर भस्म बना लें। इसमें नारियल तेल मिला लें। इसे गीली या सूखी, किसी भी प्रकार की खुजली पर लगाने से लाभ होता है।

Related posts

पौष्टिक आहार यानि सुखी जीवन का आधार

admin

पपीता और नींबू, सेहत के लिए उपहार

admin

पोहा – एक हेल्दी ब्रेकफास्ट डाइट

admin

Leave a Comment