डिज़ीज़

गले की ख़राश- समस्या और समाधान

गले की खराश हमारे श्वसन से संबंधित समस्या है। जब गले की कोमल अंदरूनी परत वायरस या बैक्टीरिया से संक्रमित हो जाती है, उसके कारण गले में सूजन होना, खांसी और गले में बार-बार खरखराहट होना शुरू हो जाता है। अधिक बुखार होना, गर्दन में सूजन व गले में दर्द होना, निगलने में कठिनाई होना, पेट में दर्द व भूख ना लगना, यह सब गले में खराश के सामान्य लक्षण हैं।

सामान्य तौर पर गले की खराश की समस्या सर्दी लगने या बुखार होने पर होती है। लेकिन, जो लोग इस दिक्कत से हर समय ग्रस्त रहते हैं, उनको सावधानी और सतर्कता के साथ इसका उपचार करना बहुत जरूरी है। गले की खराश की तकलीफदेह परेशानी से निजात पाने के लिए ये घरेलू औषधीय उपचार अपनाकर लाभ मिल सकता है-

1. नींबू पानी-

गले की खराश को ठीक करने के लिए नींबू पानी पीना काफी लाभदायक है। एक गिलास में एक नींबू निचोड़ कर उसमें पानी डालकर, एक-एक चम्मच चीनी और नमक मिलाकर पीने से गले की खराश में आराम मिलेगा और पाचन तंत्र भी ठीक बना रहेगा।

2. लहसुन-

लहसुन की एक कली मुंह में डालकर धीरे-धीरे चूसने पर उसका रस गले में जाकर राहत देगा। इसका गुणकारी प्रभाव गले में इंफेक्शन पैदा करने वाले जीवाणुओं को नष्ट कर देता है।

3. अदरक-

अदरक में ऐसे एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं जो गले की समस्या और पेट की परेशानी में फायदा पहुंचाते हैं। अदरक को मुंह में डालकर चबाएं और रस को चूसें। अदरक को चाय में डालकर पी सकते हैं या पानी में अदरक उबालकर शहद के साथ सेवन करें। गले की खराश, इंफेक्शन, सूजन आदि से जल्द छुटकारा मिलेगा।

4. लौंग-

गले में खराश होने पर लौंग मुँह में रखकर धीरे-धीरे चबाते रहें। उसका रस गले में जाने से आराम मिलेगा। लौंग हमें वायरल व शरीर की अन्य समस्याओं से भी बचाता है।

5. मुलहठी-

मुलेहठी का चूर्ण मुंह में रखकर चूसने से काफी राहत मिलेगी। मुलेठी को साबुत चबाकर या पान में डालकर भी सेवन किया जा सकता है। मौसम परिवर्तन या खान-पान के कारण होने वाली गले की समस्या से निश्चित लाभ मिलता है।

6. गर्म पानी, गर्म सूप व चाय-

गले की खराबी के दौरान ठंडा पानी बिल्कुल ना पियें। गर्म पानी पीने से गले के दर्द व खराश में राहत मिलती हैं। सूखे गले को आराम मिलता है। बलगम भी मुंह से बाहर निकल जाता है। दिन में एक दो बार गर्म सूप पियें। इसके अलावा अदरक कालीमठ लोंग तुलसी से बनी चाय का भी प्रयोग कर सकते हैं।

7. गर्म पानी के गरारे-

एक गिलास गर्म पानी में नमक मिलाकर दिन में 2-3 बार गरारे करने से गले के दर्द व ख़राश में निश्चित रूप से आराम मिलता है। बार-बार खरखराने से हमारे गले में सांस झिल्ली की कोशिकाओं में आई सूजन भी गर्म पानी में नमक के गरारे करने से कम हो जाती है।

8. ऑयली खाने से परहेज-

ज्यादा तेल या मैदे से बनी चीजें आपके गले को और हानि पहुंचा सकती हैं। इसलिए तेल से बने खाद्य पदार्थ या फास्ट फूड से तो पूरी तरह दूरी बनाकर ही आप अपने खराब गले को ठीक कर सकते हैं।

9. नियमित व्यायाम-

नियमित रूप से वर्कआउट व एक्सरसाइज करने से हमारी मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है। रक्त संचार व श्वसन किया भी सही से संचालित होती है। शरीर में रक्त संचार की गति से गले की खराश में भी लाभ होता है।

10. नशे से रहें दूर-

तंबाकू, गुटखा, पान मसाला, सिगरेट और शराब जैसे नशीले पदार्थ कभी किसी को लाभ नहीं देते, हमेशा हानि ही पहुंचाते हैं। यदि गले में खराश की परेशानी के दौरान इन पदार्थों का सेवन करते हैं। यह आपकी समस्या को और ज्यादा बढ़ाने वाला ही साबित होता है।

Related posts

मलेरिया रोग क्या है – समस्या और समाधान

admin

एड़ी में बार-बार दर्द होना हील स्पर (Heel Spur) हो सकता है। – कारण ,समस्या और समाधान

admin

हाथ और पैर हमेशा ठंडे रहते हैं! तो यह थायराइड का संकेत हो सकता है

admin

Leave a Comment