डिज़ीज़

यूरिक एसिड – समस्या और समाधान

शरीर में यूरिक एसिड बनने से कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं। यूरिक एसिड बढ़ने से शरीर के सभी अंगों पर बुरा असर पड़ता है। यूरिक एसिड बढ़ने की वजह से जोड़ों में दर्द, शरीर में सूजन, किडनी की बीमारी और मोटापा जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। यूरिक एसिड बढ़ने पर ब्लड प्रेशर, थायराइड और डायबिटीज जैसी घातक बीमारियों का भी खतरा बढ़ जाता है। हालांकि शरीर में पहले से ही यूरिक एसिड की कुछ मात्रा होती है, जो 3.5 से 7.2 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर तक हो सकती है। यदि इससे ज्यादा यूरिक एसिड की मात्रा हमारे शरीर में पाई जाती है तो उसे हाई यूरिक एसिड की समस्या कहा जाता है।

यूरिक एसिड हमारे शरीर में मौजूद प्यूरीन नामक प्रोटीन के टूटने से बनता है। हमारे शरीर में यूरिक एसिड ज्यादा ना बढ़े इसके लिए उन चीजों के सेवन से बचना चाहिए जिनमें प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है। यूरिक एसिड को बढ़ाने में शराब और नॉनवेज बहुत ज्यादा जिम्मेदार होते हैं।

यूरिक एसिड बढ़ने के लक्षण…

• जोड़ों में दर्द होना, पैर और एड़ियों में तेज दर्द होना।
• उंगलियों के जोड़ों में सूजन।
• ज्यादा प्यास लगन
• बुखार आना
• तलवों का लाल होना
• हाथ पैरों में जलन होना
• शरीर में अकड़न
• पेशाब करने में दिक्कत

जानिए यूरिक एसिड बढ़ने के कारण…

• कई बार यूरिक एसिड अनुवांशिक कारणों से भी बढ़ सकता है।

• गलत डाइट या खानपान भी यूरिक एसिड बढ़ने की वजह है।

• बहुत देर तक भूखे रहने से भी यूरिक एसिड बढ़ने की समस्या हो सकती है।

• डायबिटीज के मरीजों को भी यूरिक एसिड बढ़ने की समस्या हो सकती है।

• कुछ खाद्य पदार्थ जैसे रेड मीट, सीफूड, दाल, राजमा, पनीर और चावल जैसे खाने की अधिकता से भी यूरिक एसिड बढ़ सकता है।

• मोटापा कई बीमारियों की जड़ है, कई बार यह भी यूरिक एसिड बढ़ने की वजह बन सकता है।

यूरिक एसिड बढ़ने पर अपनाएं कुछ घरेलू उपचार…

• यूरिक एसिड को नियंत्रित रखने का सबसे अच्छा तरीका ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पीना है। पानी यूरिक एसिड को पतला करता है, जिसे शरीर से यूरिक एसिड पेशाब के माध्यम से बाहर निकल जाता है।

• रोजाना एक सेब खाएं। सेब मैलिक एसिड से भरपूर होता है। इसलिए रक्त प्रवाह में यूरिक एसिड को बेअसर करता है। जिन लोगों की बॉडी में यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा होती है उनके लिए यह बेहद फायदेमंद है।

• आपके शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक है तो गाजर और ककड़ी स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। गाजर एंटीऑक्सीडेंट में बेहद समृद्ध है, जो एंजाइम के उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करती है। अपने उच्च फाइबर सामग्री के कारण में यूरिक एसिड सामग्री को शरीर से बाहर निकालने में भी सहायक होती है। ककड़ी उन लोगों के लिए एक बढ़िया विकल्प है जिनको उच्च यूरिक एसिड होता है।

• केला भी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है, यह बॉडी से अतिरिक्त यूरिक एसिड के स्तर को कम करने में मददगार है।

• एक गिलास पानी में आधा नींबू का रस निचोड़ कर इसे रोज पियें। नींबू के रस में साइट्रिक एसिड पाया जाता है, जो यूरिक एसिड का एक सॉल्वेंट होता है। जिसे अपनी डाइट में शामिल करना उच्च यूरिक एसिड स्तर को रोकने में सहायक होता है।

• अपनी डाइट में विटामिन सी से भरपूर फलों को भी शामिल करें। हर दिन 500 मिलीग्राम विटामिन सी का सेवन करने से यूरिक एसिड का स्तर बहुत कम समय में घट सकता है, उसके लिए संतरा भी एक अच्छा विकल्प है।

• ब्लैक चेरी का जूस पीने से यूरिक एसिड कम होता है। यह गठिया या किडनी स्टोन की समस्या से ग्रसित मरीजों के लिए भी काफी फायदेमंद है। ब्लैक चेरी में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं, जो यूरिक एसिड को कम करने में मदद कर सकते हैं।

Related posts

गले की ख़राश- समस्या और समाधान

admin

हाथ और पैर हमेशा ठंडे रहते हैं! तो यह थायराइड का संकेत हो सकता है

admin

किडनी स्टोन होने पर क्या खाएं और क्या पिएं

admin

Leave a Comment